UPPGT Hindi Syllabus: PDF Download

Download UP PGT Hindi Syllabus – UPPGT की परीक्षा की तैयारी करने वाले अभ्यर्थी यहाँ से UP PGT Hindi Syllabus download कर सकते हैं या पढ़ सकते हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक हासिल करने के लिए सिलेबस का अध्ययन करना जरूरी होता है। यूपी पीजीटी हिन्दी सिलेबस से आपको यह जानकारी मिलती है कि परीक्षा में सफलता हासिल करने के लिए कितना और क्या पढ़ना जरूरी है। 
ज्यादातर अभ्यर्थी बिना सिलेबस के ही परीक्षा की तैयारी करते हैं इसलिए परीक्षा में अच्छे अंक नहीं हासिल कर पाते हैं। ज्यादातर प्रतियोगी परीक्षा की किताबों में सिलेबस भी दिया होता है। लेकिन यहाँ आयोग के द्वारा उपलब्ध गया सिलेबस ही दिया गया है। 

UP PGT Hindi Syllabus and Pattern उत्तर प्रदेश की UP PGT की परीक्षा में केवल विषय से ही 125 प्रश्न पूछे जाते हैं। दूसरे राज्यों की PGT परीक्षाओं की तरह इस परीक्षा में अन्य विषयों के प्रश्न नहीं पूछे जाते हैं यानि Math, Reasoning, GK, English यदि से संबंधित प्रश्न नहीं पूछे जाते हैं। 
यूपी पीजीटी की परीक्षा में Negative marking (नकारात्मक अंक) नहीं होती यानि आपके गलत उत्तर के दंड के रूप में सही उत्तरों के अंक नहीं काटे जाते हैं। 125 प्रश्नों को हल करने के लिए 2 घंटे का समय दिया जाता है। 
UP PGT Hindi के सिलेबस में निम्न Topics से प्रश्न पूछे जाते हैं-

  • हिन्दी साहित्य 
  • हिन्दी व्याकरण
  • भाषा विज्ञान 
  • काव्यशास्त्र 
  • संस्कृत साहित्य एवं व्याकरण 

ये भी पढ़ें – UP TGT Syllabus

UP PGT Hindi Detailed Syllabus (यूपी पीजीटी हिन्दी विस्तृत सिलेबस)

हिन्दी साहित्य का इतिहासः आदिकालीन साहित्य की प्रमुख प्रवृत्तियां, भक्तिकाल, सन्तकाव्य, सूफीकाव्य, रामभक्ति काव्य, कृष्ण भक्ति काव्य, रीतिकाव्य धारा, रीतिबद्ध, रीतिमुक्त, रीतिसिद्ध, भारतेन्दु युग, द्विवेदी युग, छायावाद, प्रगतिवाद, नयी कविता।

गद्य साहित्य का विकास- निबन्ध, नाटक, कहानी, उपन्यास, आलोचना। हिन्दी की लघु विधाओं का विकासात्मक परिचय, जीवनी, संस्मरण, आत्मकथा, रेखाचित्र, यात्रा-साहित्य, गद्यकाव्य एवं व्यंग्य । 

काव्य शास्त्र – अवयव, भेंद, रस, छन्द, अलंकार, काव्यगुण, काव्यदोष, शब्द शक्तियाँ।

भाषा विज्ञान- हिन्दी की उप भाषाएं, विभाषाएं, बोलियां, हिन्दी शब्द सम्पदा, हिन्दी की ध्वनियां।

व्याकरण – हिन्दी की वर्तनी, सन्धि, समास, लिंग, वचन, कारक, विराम चिन्हों का प्रयोग, पर्यायवाची, विलोम, वाक्यांश के लिए एक शब्द, वाक्य शुद्धि, मुहावरा लोकोक्ति।

संस्कृत-साहित्य : (क) संस्कृत साहित्य के प्रमुख रचनाकार एवं उनकी रचनाएं, भास, कालीदास, भारवी, माघ, दण्डी, भवभूति, श्री हर्ष, मम्मट, विश्वनाथ, राजशेखर।

(ख) व्याकरण सन्धि, स्वर संधि, व्यंजन संधि, विसर्ग समास, विभक्ति, उपसर्ग, प्रत्यय, शब्दरूप, धातुरूप, काल अनुवाद।

Leave a Comment

error: Content is protected !!