Paryayvachi Shabd – पर्यायवाची शब्द – Hindi Synonyms

Paryayvachi Shabd – पर्यायवाची शब्द Hindi Synonyms के नाम से भी जाने जाते हैं। Paryayvachi Shabd शब्दकोश का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। पर्यायवाची शब्द बच्चों को सिखाये जाते हैं साथ ही विभिन्न परीक्षाओं में पूछे जाते हैं। यहाँ वे सभी पर्यायवाची शब्द दिये गये हैं जो ज़्यादातर परीक्षाओं में पूछे जाते हैं।

Contents hide

Paryayvachi Kya Hai – पर्यायवाची क्या है?

पर्यायवाची शब्द एक यौगिक शब्द है। जो पर्याय और वाची अर्थात् वाचक के योग से बनी हुई है। इसमें पर्याय से तात्पर्य/ मतलब समान अर्थ और वाची या वाचक से तात्पर्य बोध करने वाला है। इस प्रकार पर्यायवाची शब्द से अभिप्राय समान अर्थ का बोध कराने वाले शब्द है। उदाहरण के तौर पर जल का अर्थ पानी है, इसके साथ ही नीर का अर्थ भी पानी है इस तरह पानी जैसे अर्थ का बोध कराने के कारण जल और नीर दोनों ही शब्द पानी के पर्यायवाची हैं।

पर्यायवाची के लिए अन्य प्रचलित शब्द/ पर्यायवाची को और क्या कहते हैं-

जिस प्रकार किसी शब्द के अन्य समान अर्थ रखने वाले पर्यायवाची कहलाते हैं, ठीक उसी प्रकार पर्यायवाची शब्द के भी कई समान अर्थ देने वाले शब्द प्रचलित हैं यानी पर्यायवाची शब्द के भी पर्यायवाची नाम उपलब्ध हैं या पर्यायवाची को भी अन्य नामों से जाना जाता है जो कि निम्न हैं-

पर्यायवाची को समानार्थी, तुल्यार्थी, समानार्थक, अभिधानार्थी, Synonym Words, Synonymous Words आदि अन्य नामों से भी जाना जाता है।

पर्यायवाची की परिभाषाParyayvachi Definition

हरदेव बाहरी- ” पर्यायवाची समानार्थक शब्द होते हैं। ”

पृथ्वीनाथ पांडेय- ” समान अर्थ रखने वाले शब्द पर्यायवाची कहलाते हैं। ”

पर्यायवाची कैसे बनते हैं

विश्व की सभी भाषाओं की समृद्धि में पर्यायवाची का महत्वपूर्ण योगदान है क्योंकि दुनिया की प्रत्येक भाषा दूसरी भाषा एवं संस्कृति के संपर्क में आने से उसका प्रभाव ग्रहण करती रहती है ऐसे में एक भाषा के शब्द दूसरी भाषा में लगातार आते रहते हैं जिससे उसी भाषा में एक वस्तु या शब्द के अनेक समानार्थी प्रचलित हो जाते हैं जो बाद में उसी भाषा के मूल शब्द के पर्यायवाची कहलाते हैं।

इसके साथ ही पर्यायवाची शब्द के विकसित होने में स्रोत के आधार पर सहयोगी या मातृ भाषाओं से आये हुए शब्दों जैसे तत्सम, तद्भव एवं उसी भाषा के स्थानीय रूपों में लोगों के द्वारा विकसित संबंधित शब्दों जैसे देशज शब्द आदि से भी पर्यायवाची शब्दों का विकास एवं निर्माण होता है।

पर्यायवाची क्यों ज़रूरी है/पर्यायवाची से क्या होता है

पर्यायवाची शब्दों से किसी शब्द को वाक्य में लिखने के अन्य विकल्प उपलब्ध रहते हैं।

पर्यायवाची शब्दों से वाक्य में शब्दों के बार-बार दोहराव से बचा जा सकता है।

पर्यायवाची से रचनाकारों को गद्य एवं पद्य साहित्य लिखने में अनेक विकल्प के साथ शब्द चयन की आज़ादी, विचारों को कई तरह से प्रस्तुत करने की छूट, और सुंदर तथा लयात्मक रचना बनाने में मदद मिलती है।

इसीलिए जिस भाषा में जितने अधिक पर्यायवाची शब्द होते हैं वह भाषा पूरी दुनिया में उतनी ही समृद्ध मानी जाती है।

पर्यायवाची के प्रकार/ पर्यायवाची के भेद

पर्यायवाची शब्द के कुल तीन प्रकार प्रचलित हैं-

1- पूर्ण पर्यायवाची- वाक्य में यदि एक शब्द के स्थान पर दूसरा शब्द रखा जाय और उसके अर्थ में कोई अंतर न पड़े तो उसे पूर्ण पर्यायवाची कहा जाता है।

2- पूर्णापूर्ण पर्यायवाची- ऐसा शब्द जो एक प्रसंग में तो पूर्ण पर्याय हो किंतु दूसरे प्रसंग में समानार्थी न जाय तो उसे पूर्णापूर्ण पर्यायवाची कहते हैं।

3- अपूर्ण पर्यायवाची- ऐसे पर्यायवाची शब्द जो देखने में पर्याय तो लगते हैं पर उनका प्रयोग एक संदर्भ में न होकर अलग-अलग किया जाता है। जैसे- अस्त्र और शस्त्र

पर्यायवाची सम्बन्धी प्रश्न Test

Important Paryayvachi Shabdमहत्वपूर्ण पर्यायवाची शब्द

‘अ’ से पर्यायवाची

अंग– देह, काया, तन, शरीर, अवयव, तत्व, भाग, केलवर, वयु, हिस्सा, पार्ट आदि।

अंधा– अंध, नेत्रहीन, सूर, सूरदास, चक्षुहीन, चक्षुविहीन, प्रज्ञाचक्षु, नेत्रविहीन, ब्लाइंड आदि।

अक्षर– वर्ण, ब्रह्म, मोक्ष, शिव, चिरयुवा आदि।

अच्छा– भला, नेक, उत्तम, बढ़िया, सज्जन, गुड आदि।

अटल– अचल, स्थिर, स्थावर, निश्चल, अचर, अडिग, दृढ़, स्टेबल आदि।

अद्भुत– अनोखा, अनोखा, विलक्षण, अनूठा, बेजोड़, अप्रतिम, अद्वितीय, निराला, अन्यतम आदि।

अधिक– प्रचुर, पर्याप्त, विपुल, बहुत, इफरात, पुश्कल, ढेर-सा, अतिशय, बहुल, बहुतायत, प्रभूत, अत्यंत आदि।

अपमान– अनादर, तिरस्कार, उपेक्षा, हेय, तुच्छ, डिसरिस्पेक्ट।

अमर– नित्य, शाश्वत, अविनाशी, अनश्वर, सदा, सनातन, सदैव, सतत, सर्वदा, हमेशा, अमर्त्य, प्रतिदिन, रोज, अहर्निश आदि।

अमृत– सुधा, अमिय, सोम, पीयूष, अमी आदि।

अहंकार– दंभ, गर्व, मान, अभिमान, मय, प्रगल्भ, घमंड, ईगो आदि।

अर्जुन– पार्थ, धनंजय, कौंतेय, गांडीवधारी, किरीटी, सव्यसांची, महाबाहु, गुडाकेश, किरीटिश्वेत वाहना, विभत्सुर्विजयी, परन्तप, भारत, भरतश्रेष्ठ, फाल्गुन, कपिध्वज, पुरुषर्षभ आदि।

‘आ ‘ से पर्यायवाची

आँख– नयन, नेत्र, चक्षु, अक्षि, दृग, लोचन, अम्बक, ईक्षण, विलोचन, प्रेक्षण आदि।

आँगन– प्रांगण, अजिर, अँगना, बगर, आंगना आदि।

आँधी– तूफान, अंधड़, झंझा, झंझावात, प्रभंजन आदि।

आँसू– अश्रु, नेत्रवारि, नेत्रजल, नयननीर, नयनजल आदि।

आकाश– नभ, अंबर, गगन, शून्य, व्योम, अनंत, अभ्र, द्या, पुष्कर, अंतरिक्ष आदि।

आकाशगंगा– मन्दाकिनी, सुरनदी, नभगंगा, नभोनदी, गैलेक्सी, मिल्कीवे आदि।

आग– पावक, अग्नि, अनल, दव, कृषानु, दहन, वहिन, रोहिताश्व, हुताशन, वैश्वानर, ज्वाला, जातदेव, धूम्रकेतु, धनंजय, वायुसख, ज्वलन, हव्यवाहन, फ्लेम, फायर आदि।

आडम्बर– ढोंग, प्रपंच, स्वांग, ढकोसला, पाखंड, अन्धविश्वास आदि।

आनंद– प्रसन्नता, सुख, चैन, विनोद, हर्ष, प्रमोद, उल्लास, आह्लाद, मोद, आदि।

आम– आम्र, रसाल, फलश्रेष्ठ, पिकवल्लभ, सहकार, अमृतफल, पिकप्रिय, पियम्बु, पिकबन्धु, मन्मथालय, अंब, मैंगो आदि।

आवश्यक– जरूरी, अपरिहार्य, अनिवार्य, बाध्यकर, नीड, इम्पोर्टेंट आदि।

आहार– भोजन, खाना, खाद्य, खाद्य-सामग्री, खाद्यवस्तु, भोज्यवस्तु, भोज्य-सामग्री, फूड, आदि।

‘इ’ से पर्यायवाची

इंद्र– देवराज, सुरेंद्र, सुरेश, सुरपति, शाचिपति, मधवा, शक, पुरंदर, कौशिक, मेघपति, पुरहूत, जिष्णु, अमरपति, वज्रधर, बीबुधेश, सहस्राक्ष आदि।

इंद्रधनुष– सप्तवर्ण धनु, शक्रचाप, इन्द्रधनु, सुरचाप, धनुक, रेनबो आदि।

इच्छा– चाह, कामना, अभिलाषा, लालसा, अभिप्रेत, एषणा, अभीष्ट, अपेक्षा, अभीप्सा, ईप्सा, मनोरथ, वाञ्छा, रुचि, तृष्णा, आकांक्षा, उत्कंठा, ईहा, स्पृहा, लिप्सा, मर्ज़ी आदि।

‘ई’ से पर्यायवाची

ईश्वर– प्रभु, भगवान, परमेश्वर, दीनानाथ, विधाता, विरंचि, जगदीश, विधि, स्रष्टा, अज, ईश, जगन्नाथ, पारब्रह्म, जगतप्रभु, परमात्मा, अब्जयोनि आदि।

‘उ ‘ से पर्यायवाची

उत्कर्ष– उन्मेष, उन्नति, उत्थान, अभ्युदय, अभ्युत्थान, आरोह, चढ़ाव, उत्क्रमण, उठाव, प्रोग्रेस आदि।

उदास– अप्रसन्न, खिन्न, विषण्ण, चिंताकुल, उद्विग्न, अन्यमनस्क, उन्मन, सैड आदि।

उदाहरण– दृष्टांत, नजीर, मिसाल, नमूना, उद्धरण, निदर्शन, संदर्भ, एक्जैम्पल आदि।

उपकार– भला, भलाई, नेकी, हित, कल्याण, हितसाधन, परोपकार, अच्छाई, उद्धार आदि।

उपमा– तुलना, सम, समानता, के जैसा, के तुल्य, के समान, की तरह, सादृश्य, मिलान, तुल्य, प्रतीक, प्रतिमान, उपमान, सिम्बल आदि।

उपवास– व्रत, अनशन, निराहार, फांका, निराजल, निर्जला, लंघन, फ़ास्ट आदि।

उपाय– तरीका, युक्ति, जुगत, जुगाड़, तदबीर, ढंग, क्लू आदि।

उल्लू– कौशिक, उलूक, लक्ष्मीवाहन, आउल आदि।

‘ऊ’ से पर्यायवाची

ऊँचा– उच्च, उत्तुंग, ऊर्ध्व, ऊपर, तुंग, बुलंद, उन्नत, गगनचुंबी, लंबा, शीर्षस्थ, अपर, हाई आदि।

ऊँट– उष्ट्र, महाग्रीव, लम्बोष्ठ, क्रमेलक, कैमल आदि।

‘ऋ’ से पर्यायवाची

ऋषि– मुनि, योगी, तपस्वी, तापस, व्रती, साधु, संत, भक्त, निष्कामी, सेंट आदि।

‘ऐ’ से पर्यायवाची

ऐच्छिक– वैकल्पिक, स्वेच्छाकृत, सविकल्प, मनचाहा, अर्बिट्रेरी आदि।

ऐश्वर्य– ऋद्धि, समृद्धि, सम्पत्ति, श्री, वैभव, सम्पन्नता, बढ़ती, बढ़ोत्तरी, सम्पदा, सुमति, प्रोस्पेरिटी आदि।

‘ओ’ से पर्यायवाची

ओज– बल, ताकत, तेज, दीप्ती, दम, पराक्रम, शक्ति, ऊर्जा, जोर, वीर, स्ट्रेंथ आदि।

ओठ– ओष्ठ, होंठ, अधर, दंतच्छद, रदच्छद, लिप आदि।

ओस– तुषार, हिमकण, हिमसीकर, हिमबिन्दु, तुहिनकण आदि।

‘औ’ से पर्यायवाची

औषधि– दवा, दवाई, भेषज, औषध, रसायन, मेडिसिन आदि।

और– तथा, अथवा, या, एवं, साथ ही, इतर, भिन्न, अधिक, ज्यादा, बढ़कर, एंड आदि।

‘क’ से पर्यायवाची

कचहरी– अदालत, न्यायालय, कोर्ट, मुंसिफी आदि।

कठोर– निष्ठुर, कड़ा, निर्दय, कर्कश, परुष आदि।

कबूतर– कपोत, पारावत, हारीत, रक्तलोचन, परेवा, पीजन आदि।

कम– न्यून, थोड़ा, जरा, नाकाफी, अल्प आदि।

कमजोर– दुर्बल, निर्बल, कृश, कृशकाय, क्षमताहीन आदि।

कमल– नीरज, सरोज, जलज, पंकज, वारिज, नलिन, अरविंद, शतपत्र, कंज, राजीव, सरोरुह, शतदल, कुवलय, उत्पल, इंदीवर, पद्म, अंभोज, पायोध, कोकनद, सरसिज, सरसीरूह आदि।

कल्पवृक्ष– पारिजात, देवद्रुम, कल्पद्रुम, मन्दार, कल्पतरु, देवतरु आदि।

कल्याण– हित, भलाई, मंगल, शुभ, उपकार, परोपकार, भला, नेकी, शिवम आदि।

कसम– शपथ, सौंह, हलफ, सौगंध, प्रतिज्ञा, संकल्प आदि।

कामदेव– अनंग, रतिपति, मदन, मनोभव, पंचशर, मार, स्मर, मनसिज, मन्मथ, मीनकेतु, कंदर्प, मनोज, मकरध्वज, कुसुमशर, केतन, पुष्पधन्वा, मयन, काम, कुसमेषु, प्रद्युम्न आदि।

किरण– रश्मि, मरीच, मयूख, अंशु, कर, वेब आदि।

कुबेर– धनराज, धनपति, धनेश, धनेश्वर, धनपाल, अलंकेश, धनद, नृपराज, यक्षराज, अधिपति, राजराज, धनाधिप, किन्नरेश, श्रीद आदि।

कुरूप– बदसूरत, बदशक्ल, भोंडा, बेडौल, भद्दा आदि।

कुशल– निपुण, दक्ष, प्रवीण, निष्णात, पारंगत, होशियार, पटु आदि।

क्रूर– निर्दयी, निर्मम, निष्ठुर, बेदर्द, दयाहीन, अकरुण आदि।

कृष्ण– कान्हा, कन्हैया, श्याम, मोहन, ऋषिकेश, वंशीधर, मुरलीधर, गिरिधर, गोपाल, नटवर, बनवारी, गोविंद, बनमाली, माधव, नंदलाल, दामोदर, ब्रज वल्लभ, मुकुंद, मुरारी, गोपीनाथ, क्षीरशायी, वासुदेव, नंदनंदन आदि।

क्रोध– गुस्सा, रोष, कोप, अमर्ष, रिष, आपा खोना आदि।

कोयल– कोकिल, पिक, श्यामा, मदनशलाका, वसंतदूती, काकपाली, कलकंठ, कलघोष आदि।

कौआ– काग, काक, वायस, एकाक्ष, करट, क्रो आदि।

‘ग’ से पर्यायवाची

गंगा– सुरसरि, मंदाकिनी, अलकनंदा, भगीरथी, देवसरि, नदीश्वरी, देवनदी, देवापगा, विष्णुपदी, जाह्नवी, त्रिपथगा, सुरध्वनि आदि।

गणेश– गजानन, लंबोदर, गणपति, एकदंत, विनायक, गणाधि, हेरम्ब, द्वयमातुर, गौरीसुत, गिरिजानंदन, गजबदन, मोदकप्रिय, विघ्न-विनायक, महाकाय, मूषक-वाहन, भवानी-नंदन, लम्बतुण्ड, विघ्न-हरण, विघ्न-विनाशक आदि।

गदहा– गधा, गर्दभ, खर, रासभ, वैशाखनंदन, धूसर, वेशर, चक्रीवान आदि।

ग़रीब– दीन, निर्धन, दरिद्र, अकिंचन, कंगाल, दरिद्र नारायण, धनहीन, रंक, विपन्न, आर्त, व्यथित, विपत्तिग्रस्त, दुःखी, पीड़ित, शोषित, दमित, पूअर आदि।

गाँव– पुर, पुरवा, ग्राम, देहात, मौजा, बस्ती, देहात आदि।

गाय– गौ, धेनु, सुरभि, गऊ, भद्रा, दोग्धी, गौरी आदि।

गुलाम– अधीन, परतंत्र, परवश, पराश्रित, पराधीन आदि।

‘घ’ से पर्यायवाची

घर– गृह, भवन, सदन, निकेतन, मंदिर, धाम, आगार, आलय, निलय, गेह, शाला, मकान, आवास, ओके, आशियाना, अयनशाला, निकेत आदि।

घोड़ा– अश्व, हय, तुरंग, घोटक, बाजि, सैंधव, रवीसुत आदि।

‘च’ से पर्यायवाची

चंद्रमा– शशि, इन्दु, मयंक, राकापति, शशांक, सुधाकर, निशानाथ, हिमांशु, हिमकर, निशिपति, सुधांशु, निशाकर, विभाकर, विधु, राकेश, कलानिधि, तारकेश्वर, द्विराज, मून आदि।

चतुर– चालाक, विज्ञ, दक्ष, कुशल, प्रवीण, निपुण, पटु, नागर, सयाना, होशियार, निष्णात, क्लेवर आदि।

चाँदनी– कौमुदी, ज्योत्सना, चंद्रिका, चंद्रकला, जुन्हाई, चंद्रमरीचिका, अमृत-तरंगिणी आदि।

चाँदी– रजत, रूपा, रौप्य, रूप्य, रूपक, रुक्म, नौध, गात रुप, चंद्रहास, सिल्वर आदि।

चापलूसी– चाटुकारी, चमचागिरी, चिरौरी, मिथ्या प्रशंसा, खुशामद, बटरिंग आदि।

चिट्ठी– खत, पत्र, पाती, लेटर आदि।

चोटी– शीश, श्रृंग, सानु, तुंग, परकोटि, शिरबिन्दु, चुटिया, चुन्नी आदि।

चोर– चौर, दस्यु, रजनीचर, खनक, मोषक, कभिज, तस्कर, कुंभिल, थीफ आदि।

‘छ’ से पर्यायवाची

छल– धोखा, कपट, फरेब, प्रवंचना, शोषण, प्रताड़ना आदि।

छाया– परछाईं, प्रतिच्छाया, साया, झाईं, प्रतिबिंब आदि।

‘ज’ से पर्यायवाची

जीभ– रसना, जिह्वा, जबान, रसनेन्द्रिय, रसेन्द्रिय, रसज्ञा, चंचला, रसिका, टंग आदि।

ज्ञान– बुद्धि, मेधा, प्रज्ञा, समझ, प्रतिभा, नॉलेज, विट आदि।

‘झ’ से पर्यायवाची

झंडा– ध्वज, ध्वजा, पताका, केतु, निशान, फरहरा आदि।

झरना– प्रपात, निर्झर, स्रोत, उत्स आदि।

झोपड़ी– कुटी, कुटिया, मड़हा, मड़ई, पर्णकुटी, छानी, कुंज, हट आदि।

‘त’ से पर्यायवाची

तरकस– तूणीर, निषंग, तूण, तूणी, इषुधि आदि।

तलवार– कृपाण, खड्ग, करवाल, असि, चंद्रहास, शमशीर आदि।

तालाब– सरोवर, जलाशय, सर, तड़ाग, ताल, सरसी, पुष्कर, पोखर, छद, दह, कासार, तलैया, ह्रद आदि।

तुरंत– जल्द, फौरन, जल्दी, तत्क्षण, तत्काल, त्वरित, झट, झटपट, शीघ्र, क्षिप्र, अविलंब, आशु, इमीडिएट, ऑन टाइम आदि।

तोता– सुआ, शुक्र, कीर, सुग्गा, रक्ततुण्ड, दाड़िम आदि।

त्यौहार- पर्व, उत्सव, समारोह, मंगलकार्य, जलसा, फेस्टिवल आदि।

‘द’ से पर्यायवाची

दंगा– उपद्रव, फसाद, बलवा, मार-काट, खून-खराबा आदि।

दर्द– पीड़ा, दुःख, व्यथा, तकलीफ, वेदना, यंत्रणा, यातना, विरह, कष्ट, आदि।

दाँत– दशन, रद, रदन, दन्त, द्विज, मुखक्षुर आदि।

दिन– वार, दिवस, वासर, दिवा, अहन, डे आदि।

दीपावली– दिवाली, दीपमाला, दीपोत्सव, दीपमालिका, प्रकाशोत्सव आदि।

दुःख– कष्ट, संकट, पीड़ा, व्यथा, संताप, क्लेश, वेदना, यातना, उद्वेग, खेद, विषाद, क्षोभ, यंत्रणा, संतप्त, शोक, उत्पीड़न आदि।

दुर्गा– भवानी, चंडी, भगवती, महामाया, कुमारी, शक्ति, कामाक्षी, महागौरी, नारायणी, चंडिका, सिंहवाहिनी, दुर्गे, कालिका, कल्याणी, कालरात्रि, अभया, शाम्भवी, चामुण्डा, अजा, धात्री, वागीश्वरी आदि।

दुष्ट– बदमाश, नीच, भ्रष्ट, लुच्चा, लफंगा, लम्पट, दुर्वृत्त, पाजी, कुकर्मी, निकृष्ट, अधम, हरामी, डेविल।

दूध– पय, क्षीर, गोरस, पीयूष, दुग्ध, मिल्क आदि।

देवता– सुर, देव, अमर, निर्जर, आदित्य, गीर्वाण, त्रिदश, अमर्त्य, विवुध आदि।

द्रौपदी– पांचाली, कृष्णा, द्रुपदसुता, याज्ञसेनी, सैरन्ध्री आदि।

‘ध’ से पर्यायवाची

धन– दौलत, माया, पैसा, रुपया, द्रव्य, माल, संपदा, संपत्ति आदि।

धनुष– चाप, पिनाक, कमान, शरासन, कोदंड आदि।

धूर्त– मक्कार, दगाबाज, चालाक, नालायक, खोटा, छली, वंचक आदि।

‘न’ से पर्यायवाची

नक्षत्र– खद्योत, उडु, ऋक्ष, सितारा, तारा, ग्रह, तारक आदि।

नदी– अपगा, सरिता, तरनी, तरंगिणी, निर्झरिणी, पयस्विनी, स्रोतस्विनी, सरी, तरिणी, निम्नगा, तरंगवती, लरमाला, नदिया, तटिया, कल्लोलिनी आदि।

नमक– समरस, नोन, नून, लोन, लवण, साल्ट आदि।

नया– नव, नूतन, नवीन, नव्य, नवल, अभिनव, ताजा, अर्वाचीन, आधुनिक, समकाल, आज आदि।

नरक– यमपुर, यमलोक, जहन्नुम, दोज़ख, यमालय आदि।

नाम– यश, कीर्ति, प्रसिद्धि, बड़ाई, मशहूरी, शोहरत, अभिधान, अस्मिता, परिचय, पहचान, नेम आदि।

नाव– नौका, डोंगी, पतंग, तरणी, जलयान, बेड़ा, नैया, तरी, बोट आदि।

नियम– विधि, कानून, कायदा, विधान, दस्तूर, उसूल आदि।

निर्जीव– मुर्दा, मृत, मरा, प्राणहीन, जीवहीन, निष्प्राण आदि।

नेता– मुखिया, अगुआ, सरदार, प्रधान, अग्रणी आदि।

‘प’ से पर्यायवाची

पक्षी– खग, पंक्षी, विहग, चिड़िया, शकुनि, पखेरू, विहंग, द्विज, अंडज, शकुन्त, पतंग, परिंदा, बर्ड आदि।

पछतावा– पश्चाताप अनुताप, ग्लानि, संताप, प्रायश्चित, अफसोस आदि।

पति– नाथ, स्वामी, भर्ता, भरतार, वल्लभ, प्राणनाथ, भतरि, बालम, साजन, जीवनधारा, प्राणप्रिय, कांत, आर्यपुत्र, ईश, हसबैंड आदि।

पत्ता– पत्र, दल, पर्ण, पात, छदन, पल्लव, कोंपल आदि।

पत्थर– प्रस्तर, पाषाण, अश्म, पाहन, शिला, उपल, उत्पर्ल, संग आदि।

पत्नी– वधू, भार्या, कांता, सहगामिनी, गृहणी, प्राणप्रिया, वल्लभा, बहू, जोरू, दारा, वामा, औरत, घरवाली, वामांगी, अर्धांगिनी, कलत्र, प्रिया, तिय, घरनी, वाइफ आदि।

परंपरा– रीति, रिवाज, परिपाटी, प्रणाली, तरीका, ढंग, पद्धति, प्रथा, प्रचलन, चलन, रूढ़ि, दस्तूर, शैली, नियम, चाल, चलन, ट्रेडिशन आदि।

परशुराम– भृगुसुत, जामदग्न्य, परशुधर, भार्गव, रेणुकातनय, भृगुनन्दन आदि।

परिवार– कुल, खानदान, घराना, कुटुम्ब, कुनबा, घर, फेमिली आदि।

परेशान– हैरान, उद्विग्न, क्षुब्ध, आकुल, बेजार, नाकोंदम आदि।

परिचय– मुलाकात, पहचान, अस्मिता, अभिज्ञान, वाकफियत, नाम, जानकारी आदि।

पर्दा– आवरण, यवनिका, नेपथ्य, आड़, ओट, छिपाव आदि।

पर्वत– पहाड़, शैल, गिरि, भूधर, नग, भूमिधर, महीधर, अचल, धराधर, मेरु, तुंग आदि।

पल– क्षण, लमहा, दम, निमेष, अंश, सेकेंड, मोमेंट आदि।

पवन– वायु, हवा, समीर, मारुत, अनिल, बयार, वात, प्रभंजन, प्राण, समीरण, प्रकंपन, मृगवाहन, नाभप्राण आदि।

पवित्र– पावन, पुनीत, साफ, विशुद्ध, शुचि, पाक, शुद्ध, होली आदि।

पागल– बावला, कमअक्ल, दीवाना, विक्षिप्त, उन्मत्त, मैड आदि।

पान– ताम्बूल, पर्णलता, सप्तशिला, नागरबेल, नागबल्ली, नागिनी पत्र आदि।

पानी– जल, नीर, वारि, तोय, पय, अंबु, सलिल, जीवन, आब, उदक, अमृत, धनरस, सारंग, वन, विंष, शम्बर, मेघपुष्प, पाथ, सर्वमुख आदि।

पाप– गुनाह, अपराध, कलुष, अघ, पातक, अपकर्म आदि।

पार्वती– शिवा, शिवाली, उमा, गौरी, भवानी, दुर्गा, शिवांगी, गिरिजा, गिरिराज कुमारी, सती, शैलसुता, अम्बिका, चंडी, मृदानी, आर्या, ईश्वरी, रुद्राणी, आर्या, अभया, सर्वमंगला, मैनसुता, हेमवती, अर्पणा आदि।

पिता– तात, जनक, भर्ता, वालिद, बाप, अंशी, फादर आदि।

पुत्र– सुत, बेटा, लड़का, तनय, सुवन, लाल, तनुज, नंदन, सूनु, आत्मज, औरस, पूत, सन आदि।

पुत्री– आत्मजा, बेटी, सुता, तनया, दुहिता, लड़की, डॉटर आदि।

पुरुष– नर, मानव, मनुष्य, व्यक्ति, मनुज, आदमी आदि।

पूजा– अर्चना, आराधना, उपासना, इबादत, भक्ति, वंदना आदि।

पूज्य– श्रद्धेय, मान्य, मान्यवर, पूजनीय, माननीय, सम्माननीय, समादरणीय, गणमान्य आदि।

पृथ्वी– धरा, धरती, अचला, क्षिति, वसुंधरा, वसुधा, भू, धरित्री, भूमि, उर्वी, मेदिनी, मही, प्रहुभि, धरणी, धाप्ति, जगती, क्षोणी, जगती, वसुमति, बीजप्रसु, अवनि, ईला आदि।

पेड़– वृक्ष, तरु, विटप, द्रुम, पादप, रूख, शाखी, गाछ आदि।

पैर– पाँव, पद, पाद, चरण, पग, पगु, कदम आदि।

प्रकाश– उजाला, रोशनी, प्रभा, द्युति, चमक, ज्योति, आलोक, दीप्ति, छवि आदि।

प्रजा– लोक, जन, जनमानस, जनता, रैयत, रियाया, लोग, पब्लिक आदि।

प्रसन्नता– खुशी, आमोद, प्रमोद, आनंद, प्रफुल्लता, हर्ष, आह्लाद, हैप्पीनेस आदि।

प्रसिद्ध– प्रख्यात, विख्यात, सुख्यात, मशहूर, विश्रुत, नामवर, यशस्वी, नामी, लब्ध-प्रतिष्ठित, प्रतिष्ठित, नामचीन, नामीगिरामी, फेमस आदि।

प्रसिद्धि– यश, कीर्ति, नाम, नेकनामी, ख्याति, लोकप्रियता, पॉपुलरिटी आदि।

प्राचीन– पुराना, पुरातन, प्राक्त, प्राच्य, पूर्वकालीन, प्राक्कालीन, भूतकालीन आदि।

प्रेम– स्नेह, राग, अनुराग, मोह, ममता, प्रणय, अनुरक्ति, प्रीति, प्यार, मोहब्बत, रति, दुलार, लाड, मिलन, लव आदि।

प्रेमी– प्रिय, जान, प्राणप्रिय, प्रियतम, प्यारा, वल्लभ, दुलारा, आशिक़, मासूक आदि।

प्रेमिका– प्रियतमा, प्रिया, प्रेयसी, प्यारी, दिलरुबा, प्रिये, सजनी, वल्लभा, मासूका आदि।

प्रार्थना– विनय, याचना, निवेदन, अनुनय, विनती, आराधना, अर्ज़ आदि।

‘फ’ से पर्यायवाची

फल– परिणाम, नतीजा, अंजाम, वृक्षफल, फ्रूट आदि।

फूल– सुमन, पुष्प, कुसुम, पुहुप, प्रसून, मंजरी, गुल, लतान्त, फ्लावर आदि।

‘ब ‘ से पर्यायवाची

बगीचा– वाटिका, बगिया, बाग, उपवन, उद्यान, फुलवारी, निकुंज, कुंज, गार्डेन आदि।

बचपन– बाल्यकाल, लड़कपन, बाल्यावस्था, बचपना, नादान, चाइल्डहुड आदि।

बच्चा– बाल, बालक, लड़का, शिशु, चाइल्ड, चिल्ड्रन आदि।

बन्दर– बानर, कपि, मर्कट, कीश, हरि, शाखामृग, कपीश, मंकी आदि।

बड़ा– विशाल, वृहद, अपरिमित, वृहत, लम्बा-चौड़ा, बिग आदि।

बलराम– हलधर, दाऊ, बलदेव, बलभद्र, हलायुध, श्यामबन्ध, रौहिणेय, हली, रेवतीरमण, बलवीर आदि।

बलवान– बलशाली, बली, सबल, शक्तिशाली, ताकतवर, जोरावर, पॉवरफुल आदि।

बलिदान– कुर्बानी, प्राणदान, शहीद, प्राण- न्यौछावर, आत्मोत्सर्ग, प्राणोत्सर्ग, प्राणाहुति, जीवनदान आदि।

बहन– भगिनी, सहोदरा, दीदी, जीजी, सिस्टर आदि।

ब्राह्मण– पंडित, विप्र, द्विज, भूसुर, महीसुर, भूदेव, पुजारी आदि।

बहुत– ज्यादा, अधिक, अपार, विपुल, अमित, इफरात, अतीव, अति, बहुल, अपरिमित, अनेक, असंख्य, प्रचुर, प्रभूत, अनगिनत, बेशुमार, अगणित, अत्यंत, एनफ, सो मच आदि।

बाण– शर, तीर, विशिख, शिलीमुख, नाराच, इषु, सायक, आशुग, तोमर, एरो आदि।

बादल– मेघ, जलद, नीरद, वारिद, पयोद, अम्बुद, जीमूत, धर अभ्र, वारिधर, जलधर, धाराधर, घन, जलचर, जगजीवन, बलाधर, परजन्य, पयोधर, सारंग क्लाउड आदि।

बाधा– व्यवधान, ब्याधा, विघ्न, रोड़ा, अड़चन, रुकावट, विरोध, अवरोध, अवरुद्ध आदि।

बाल– केश, चूड़ा, अलक, कच, चिकुर, गेसू, शिरोरुह, चूल, कुंतल, लट, हेयर आदि।

बिजली– विद्युत, चपला, चंचला, सौदामिनी, अंशिन, घनवल्ली, बिजुरी, क्षणप्रभा, कांचन, कौंधा, चंपा, छटा, दामिनी, तड़ित, पीत-प्रभा, प्रभा आदि।

बुद्धि– मति, प्रज्ञा, अक्ल, बोध, विवेक, ज्ञान, समझ, जानकारी, अकल, दिमाग, जेहन, दानिश, मेधा, प्रतिभा, माइंड आदि।

बुराई– निंदा, अपयश, बदनामी, बदगोई, निंदा, परिवाद, अपवाद, अपकीर्ति, भर्त्सना, कुत्सा, दुत्कार आदि।

बेकार– व्यर्थ, निरर्थक, बेमतलब, अर्थहीन, निराधार, जड़हीन, निर्मूल, वृथा, बेफायदा, निष्प्रयोजन, आधारहीन, बेमानी, बेबुनियाद आदि।

बेशर्म– बेहया, निर्लज्ज, धृष्ट, ढीठ, चिकना घड़ा आदि।

बेहोश– बेसुध, अचेत, मूर्च्छित, संज्ञाहीन, निश्चेष्ट आदि।

‘भ’ से पर्यायवाची

भंडार– गोदाम, मालखाना, संग्रहालय, संग्राहागार, आगार, स्टोररूम आदि।

भाग्य– नियति, प्रारब्ध, विधि, दैव, भावी, भवितव्य, नसीब, अदृष्ट, तकदीर, प्रालब्ध, किस्मत, होनी, दैव्य, लक आदि।

भार– वजन, बोझ, दबाव आदि।

भारत– हिंदुस्तान, आर्यावर्त, जम्बूद्वीप, भरतखण्ड, इंडिया, इंडिक आदि।

भाषा– बोली, वाणी, गिरा, गिर्वाणी, जबान, लैंग्वेज आदि।

भिखारी– भिक्षुक, याचक, वंचक, रंचक, भिखमंगा आदि।

भीड़– जमघट, रेला, जमावड़ा, जनसंकुल, जनसमूह, भीड़-भाड़, भीड़-भड़क्का, क्राउड आदि।

भूमिका– प्रस्तावना, मुखबन्ध, पूर्वपीठिका, लेखकीय, दो शब्द, आमुख, प्राक्कथन, प्रीफेस आदि।

भूल– त्रुटि, गलती, अशुद्धि, चूक, भ्रम, मिस्टेक आदि।

भौंरा– भ्रमर, मधुप, मधुकर, अलि, भृंग, षटपद, मधुराज, मधुभक्षी आदि।

‘म’ से पर्यायवाची

मंदिर– देवालय, देवस्थान, देवगृह, ईशगृह आदि।

मछली– मीन, मत्स्य, सफरी, झष, जल-जीवन, जलतोरि फिश आदि।

मजदूर– श्रमिक, कामगार, श्रमजीवी, मेहनतकश, लेबर आदि।

मन– मानस, अंतर, जी, अंतःकरण, अंतःअयन, चित्त, दिल, हृदय आदि।

मनुष्य– मानव, मनुष्य, मनुज, इंसान जन, लोक, मर्त्य, मत्य, आदमी, लोग, ह्यूमन आदि।

मनोरंजन– आनंद, तफरीह, आमोद-प्रमोद, मनबहलाव, मनोविनोद, इंटरटेनमेंट आदि।

महिमा– प्रसिद्धि, बड़ाई, गरिमा, महत्ता, महात्म्य, गौरव, महत्व, इंपोर्टेंस आदि।

माँ– जननी, माता, मातु, मातृ, मातरि, मैया, महतारी, अम्ब, जनयित्री, धात्री, प्रसु, अम्बिका, जन्मदात्री, अम्मा, माई, मदर आदि।

माया– धोखा, छल, प्रपंच, आडंबर, मैं, मय, अस्तित्वरहित, धन आदि।

मित्र– दोस्त, सखा, सहचर, साथी, सहयोगी, यार, हमदम, सुहृद, मीत, फ्रेंड आदि।

मिलना– भेंट, समागम, मिलन, संगम, संग, सम्मिलित, मिलाप, सम्पर्क, संयोग, मेल आदि।

मीठा– मधुर, सरस, स्वादु, मिष्ट, सुरस, मीठ, मिठाई, स्वीट आदि।

मुकदमा– केस, मामला, विवाद, वाद, नालिश, दावा आदि।

मुख– मुंह, आनन, वदन, मुखड़ा, चेहरा, फेस आदि।

मुर्गा– तमचुर, कुक्कुट, अरुणशिखा, ताम्रचूड़, चरणायुध, कॉक आदि।

मूर्ख– बुद्धिहीन, उल्लू, जड़, कमअक्ल, बेअक्ल, नासमझ, भोंदू, बैल, बैलबुद्धि, नादान, गँवार, अज्ञानी, निरक्षर, लिख-लोढ़ा पढ़ पत्थर, निर्बुद्धि, गोबर-गणेश, फ़ूल आदि।

मेढक– दादुर, हरि, थेक, भेक, दर्दुर, शालूक, शालू, वर्षा-भू, चातक, मंडूक, वर्षाप्रिय, फ्रॉग आदि।

मेहनत– परिश्रम, उद्योग, मशक्कत, श्रम, उद्यम, कर्मठता, अध्यवसाय, हार्डवर्क आदि।

मैना– कलह प्रिया, सारिका, चित्राक्षी, चित्रनेत्रा, मदन आदि।

मोक्ष– निर्वाण, मुक्ति, कैवल्य, अपवर्ग, परमपद, परमगति, परमधाम, सद्गति, अमृतत्व आदि।

मोती– मुक्ता, मौक्तिक, शुक्तिज, स्वाति सुत, सीपिज, पर्ल आदि।

मोर– मयूर, शिखी, केकी, कलापी, शिखंडी, बर्हि, ध्वजी, नीलकंठ, भुजगारि, सारंग, हरि, शिव-सुत-वाहन, पिकॉक आदि।

मोहित– मुग्ध, आसक्त, तल्लीन, लुब्ध, आकृष्ट, अट्रैक्ट आदि।

मौलिक– असली, वास्तविक, मूलभूत, आधारभूत, बुनियादी, ओरिजिनल आदि।

‘य’ से पर्यायवाची

यथार्थ– वास्तव, सच, सत्य, असली, सचमुच, रियल आदि।

यमराज– यम, धर्मराज, सूर्यपुत्र, जीवनपति, अन्तक, शमन, कीनास, कतान्त, जीविनेश, काल, मृत्युपति, यमुनाभ्राता, दण्डधर, श्राद्धदेव आदि।

यमुना– कालिन्दी, जमुना, कृष्णा, रवितनया, रविनंदिनी, अक्रजा, सूर्यसुता, तरणिजा, यमभगिनी, कलगंगा, भानुजा, तरणितनुजा, अक्रसुता आदि।

युक्त– संयुक्त, मिश्रित, संश्लिष्ट, मिश्र, यौगिक, जुड़ा हुआ, मिला हुआ, लगा हुआ, संलग्न, लग्न, सम्बद्ध, नत्थी, पेस्ट, ऐड आदि।

यात्री– पथिक, राही, पंथी, बटोही, मुसाफिर, राहगीर, ट्रैवलर आदि।

युद्ध– रण, समर, जंग, संग्राम, लड़ाई, हमला, आक्रमण, वार आदि।

युवक– तरुण, जवान, किशोर, युवा, नौसिखिया, लड़का, यंग आदि।

युवती– किशोरी, तरुणी, सुंदरी, श्यामा, नवोढ़ा, नवयौवना, रमणी, यौवनवती आदि।

योग्य– कुशल, सक्षम, दक्ष, निष्णात, क्षम, काबिल, कार्यक्षम, उपयुक्त, परफेक्ट, एलीजिबल आदि।

‘र’ से पर्यायवाची

रक्त– खून, लहू, रुधिर, शोणित, लोहू, लौहित, ब्लड आदि।

रक्षा– सुरक्षा, बचाव, हिफाजत, रखवाली, त्राण, प्रोटेक्शन आदि।

रविवार– इतवार, सूर्यवार, रविवासर, आदित्यवार, संडे आदि।

रस– सत्त, सार, तत्व, आनंद, शर्बत आदि।

राक्षस– दानव, दैत्य, निशाचर, शंबर, असुर आदि।

राजा– नरेश, नृप, नृपति, भूपति, राव, सम्राट, महीपति, शहंशाह, अधिपति, अधीश्वर, महाराज, महाराजा, धराधिपति, नरेन्द्र, भूपाल, नरपति, भूप, भूस्वामी, पृथ्वीनाथ, पृथ्वीपति, पृथ्वीपाल, महिपाल, राजाधिराज, किंग आदि।

राज्यपाल– प्रान्तपति, सूबेदार, राज्यपति, गवर्नर आदि।

रात– रजनी, रात्रि, निशा, निशीथ, यामिनी, विभावरी, शर्वरी, क्षपा, तमी, अंधियारी, रैन, त्रियामा, तमिस्रा, विभा, क्षणदा, दोषा, क्षपा, नाइट आदि।

राधा– राधिका, कृष्णप्रिया, ब्रजरानी, वृषभानुजा, हरिप्रिया, वृषभानुदुलारी, सर्वेश्वरी, नागरी आदि।

राम– रामचंद्र, रघुपति, रघुवीर, अवधनरेश, सीतापति, रघुनंदन, रघुनाथ, कोसलाधीस, पुरुषोत्तम, कमलनयन, अवधेश, राघव, जानकीश, अयोध्यापति, दशरथसुत आदि।

रावण– लंकेश, दशानन, लंकापति, लंकाधिपति, दशशीश, दशकंधर, दशकण्ठ, दैत्यराज, दशवदन, राक्षसराज, दैत्येन्द्र आदि।

रास्ता– मार्ग, राह, पंथ, डगर, पथ, पग, पगडण्डी, सड़क, वे, रोड आदि।

रिक्त– खाली, शून्य, खोखला, रीता, छूछा, एम्प्टी आदि।

रूप– शक्ल, आकार, बनावट, सूरत, मुखड़ा, मुँह, मुख, स्वरूप, आकृति, डिजाइन आदि।

रोग– बीमारी, मर्ज, व्याधि, इलनेस आदि।

रोजगार– कारोबार, धंधा, व्यवसाय, वृत्ति, जीविका, जीविकोपार्जन, रोजी, रोजीरोटी, पेशा, दुकानदारी, सेल्स आदि।

‘ल’ से पर्यायवाची

लक्ष्मण– लखन, रामानुज, शेषावतार, सौमित्र, अनंत, सुमित्रानंदन, सुमित्रासुत, उर्मिलेश, शेष आदि।

लड़का– बालक, बच्चा, वत्स, बच्छ, बाल, पुत्र, बेटा, ब्वॉय आदि।

लड़की– बालिका, बेटी, पुत्री, कन्या, बच्ची, बाला, गर्ल आदि।

लक्ष्मी– रमा, इंदिरा, विष्णुप्रिया, धनदेवी, पद्मा कमलासना, श्री, कमला, हरिप्रिया, क्षीरोद, भार्गवी, समुद्रजा, सिंधुसुता आदि।

लक्ष्य– मंजिल, गन्तव्य, ध्येय, निशाना, उद्देश्य, प्रयोजन, पड़ाव, ऐम आदि।

लज्जा– शर्म, हया, संकोच, लाज, व्रीडा आदि।

लहर– हिलोर, तरंग, उर्मि, वेग, प्रवाह, वीचि, लहरी, प्रवाह आदि।

लापरवाह– बेफिक्र, चिंतामुक्त, बेसुध, बेबुध, बेखबर, विमुख केयरलेस आदि।

लाभ– नफा, फायदा, मुनाफा, प्राप्ति, उपलब्धि आदि।

लाल– अरुण, सुर्ख, लोहित, रक्तिम, लालिमा, रक्ताभ, रेड आदि।

लुटेरा– डाकू, डकैत, अपहर्ता, बटमार, लुण्ठक आदि।

लोभ– लालच, लालसा, अभिलाषा, लिप्सा, तृष्णा, ग्रीड आदि।

लोहा– हेम, आयस, सार, लौह, फौलाद, अश्मसार, आयरन आदि।

‘व’ से पर्यायवाची

वचन– कथन, बात, प्रण, उक्ति, वादा आदि।

वन– कानन, अरण्य, अटवी, विपिन, जंगल, कान्तार, फॉरेस्ट आदि।

वर्ग– कोटि, समुदाय, सम्प्रदाय, समूह, श्रेणी, जमात, कम्युनिटी आदि।

वर्णन– विवेचन, निरूपण, व्याख्या, टीका, चित्रण, बयान, समीक्षा, समीक्षण, मीमांसा, खुलासा, तफसील बयानी, ब्यौरा, जाँच, विवेचन, वृतांत, डिस्क्रिप्शन आदि।

वर्ष– साल, बरस, अब्द, वत्सर, ईयर आदि।

वर्षा– बारिश, पावस, मेह, बरखा, चौमासा, वर्षाकाल, वर्षाकाल, बरसात, वृष्टि, रेन आदि।

वसंत– मधुमास, ऋतुराज, ऋतुपति, कुसुमाकर, माधव, स्प्रिंग आदि।

वस्त्र– कपड़ा, पट, चीर, चैल, अम्बर, वसन, क्लॉथ आदि।

वाणी– गिरा, भारती, वाक, ब्राह्मी, आवाज, वाचा, टोन आदि।

वातावरण– पर्यावरण, वायुमंडल, परिवेश, परितः, एटमॉस्फियर आदि।

वायु– पवन, हवा, समीर, अनिल, वात, मारुत, एयर आदि।

विकास– प्रगति, तरक्की, उन्नति, बढ़ती, श्रीवृद्धि, डेवलपमेंट आदि।

विचार– मत, मंतव्य, राय, धारणा, परामर्श, सलाह, मंत्रणा, सम्मति, सोच, थिंकिंग आदि।

विद्या– ज्ञान, शिक्षा, गुण, इल्म, कर्णिका, सरस्वती, एजुकेशन आदि।

विद्यालय– पाठशाला, शिक्षालय, गुरुकुल, संस्थान, विद्यापीठ, विद्यामंदिर, शिक्षण संस्थान, मदरसा, स्कूल आदि।

विद्वान– पंडित, सुधी, मनीषी, प्राज्ञ, विलक्षण, विज्ञ, कोविद, बुध, बुद्धिमान, सुविज्ञ, धीर, मनस्वी, ज्ञानवान, जानकर, ज्ञानी, समझदार, वाइज आदि।

विमान– वायुयान, जहाज, हवाईजहाज, पुष्पक विमान, नभयान, उड़नखटोला, एरोप्लेन, प्लेन आदि।

विरोध– मतभेद, असहमति, असम्मति, वैमनस्य, मतद्वैध, विपरीत, विलोम, अपोजिट आदि।

विलोम– विपरीत, उलटा, विरुद्ध, खिलाफ, प्रतिकूल, ऑपोजिट आदि।

विवश– लाचार, बेबस, मजबूर, निरुपाय, बाध्य, बेचारा, निरीह आदि।

विष– जहर, गरल, माहुर, कालकूट, हलाहल, प्वाइजन आदि।

विष्णु– नारायण, लक्ष्मीपति, गरुड़ध्वज, जनार्दन, अच्युत, केशव, चक्रपाणि, विश्वम्भर, मुकुंद, हृषिकेश, दामोदर, माधव, गोविंद, विधु, विश्वरूप, जलाशयी, वनमाली, उपेंद्र, पीताम्बर, चतुर्भुज, चतुर्बाहु, मधुरिपु, रमापति, रमेश, चक्रधर, मुरारि, शंखधर, इंदिरापति, विश्वभर्ता, विश्वपालक आदि।

वीर– बहादुर, सूरमा, भट, विकट भट, शूर, जवांमर्द, ब्रेव आदि।

वीर्य– धातु, शुक्र, सार, तेज, बीज, जीवन, स्पर्म आदि।

वेशभूषा– परिधान, पोशाक, पहनावा, लिबास ऑउटफिट आदि।

वेश्या– गणिका, वारांगना, सदासुहागिन, पतुरिया, रंडी, तवायफ, चंचला, व्यभिचारिणी, कुलटा, स्वैरिणी, पुंश्चली आदि।

वैश्य– बनिया, वणिक, सौदागर, लाला, व्यापारी, आपणिक, वाणिक्य आदि।

‘श’ से पर्यायवाची

शंकर– शिव, महादेव, शम्भु, वाराणसीनाथ, काशीनाथ, विश्वनाथ, शंभो, गंगाधर, हर, महेश, चन्द्रशेखर, गिरीश, नीलकंठ, रुद्र, त्रिपुरारी, त्रिलोचन, उमापति, भूतनाथ, भूतेश, देवाधिदेव, मदनारि, चंद्रमौली, आशुतोष, शशांक, शेखर, चिदम्बरा, दिगम्बर, महाकाल, ओंकार, वैद्यनाथ, भीमशंकर, नागेश, त्र्यम्बक, केदारनाथ, घुश्मेश, पशुपतिनाथ, पशुपति, महेश्वर, गिरिजापति, कपर्दी, वामदेव, त्र्यक्ष, कैलाशपति, शितिकंठ, भोला, भोलेनाथ, त्रिलोकी, त्रिलोकीनाथ, स्मरारि, श्रीकंठ आदि।

शक्ति– बल, सामर्थ्य, ताकत, जोर, क्षमता, पावर आदि।

शब्द– स्वर, ध्वनि, वाणी, वर्णसमूह, पद, वाक्यांश, आवाज, वर्ड आदि।

शरण– आश्रय, पनाह, रक्षा, संश्रय, त्राण, आसरा, भरोसे आदि।

शराब– मदिरा, मधु, दारू, सोम, सोमरस, मद्य, वारुणी, हाला, माध्वाक, माध्विजा, आसद, विहस्की आदि।

शरीर– काया, अंग, देह, बदन, गात, वपु, तन, बॉडी आदि।

शव– लाश, मृत शरीर, मुर्दा, मिट्टी, लोथ, डेड बॉडी आदि।

शहद– मधु, मकरन्द, पुष्पासव, कुसुकासव, पुष्पासव, माक्षिक, हनी आदि।

शहर– नगर, नगरी, पुर, पुरी, पत्तन आदि।

शादी– विवाह, परिणय, ब्याह, पाणिग्रहण, गठबंधन, गठजोड़, निकाह, मैरिज आदि।

शाम– संध्या, दिनांत, सायं, सायंकाल, दिनावसान, गोधूलि, प्रदोषकाल, साँझ, पूर्वदोषा, इवनिंग आदि।

शिकार– आखेट, अहेर, मृगया आदि।

शिकारी– अहेरी, बहेलिया, आखेटक, व्याघ्र, लुब्धक, आदि।

शिक्षा– सीख, ज्ञान, इल्म, सीखना, पढ़ना-लिखना, पठन-पाठन, प्रशिक्षण, विद्या, उपदेश, नसीहत, एजुकेशन आदि।

शिखा– चोटी, जूड़ा, चुंडी, चुटिया, चुन्नी आदि।

शीशा– दर्पण, आरसी, प्रतिमान, मुकुर, आइना आदि।

शुद्ध– साफ, स्वच्छ, परिष्कृत, परिष्कार, परिमार्जित, प्रांजल, संशोधित, विमल, निर्मल, पावन, विशुद्ध, संस्कारित, प्योर, नीट, क्लीन आदि।

शुभ– मंगल, शुभकर, कल्याण, कल्याणकारी, कल्याणप्रद, शुभदा, मंगलकारी, शिवम, मंगलप्रद, हितकारी आदि।

शून्य– खाली, रिक्त, हीन, मुक्त, विहीन, कुछ नहीं, आकाश, ब्रह्म, जीरो आदि।

शेर– सिंह, केहरि, चित्रक, हरि, मृगराज, वनराज, केशरी, शार्दूल, लायन आदि।

शोध– अनुसंधान, खोज, गवेषणा, संधान, रिसर्च आदि।

श्मशान– मरघट, कब्रगाह, प्रेतघाट, घाट, स्वर्गद्वार, मसान, दाहस्थल, चिताभूमि, क्रेमेटोरियन आदि।

‘ष’ से पर्यायवाची

षडयंत्र– साजिश, कुचक्र, अभिसंधि, दुरभिसंधि, भितरघात आदि।

‘स’ से पर्यायवाची

संकट– विपदा, विपत्ति, आपदा, आफत, मुसीबत, कठिन समय, विकट आदि।

संतोष– संतुष्टि, तृप्ति, तुष्टि, सब्र, तोष, इत्मीनान, सैटिस्फैक्शन आदि।

संदेह– शंका, संशय, आशंका, शक, अनुमान, शुबहा, कन्फ्यूजन आदि।

संन्यासी– त्यागी, विरत, बैरागी, दंडी, परिब्राजक आदि।

संपूर्ण– पूरा, कुल, सकल, समूचा, सारा, समग्र, पूर्ण, अखिल, समस्त, सर्व, सभी, सब, टोटल आदि।

संवाद– वार्तालाप, बातचीत, संभाषण, आदि।

संसार– विश्व, जग, जगत, लोक, दुनिया, भुवन, जहान, मृत्युलोक, इहलोक, भव, जगती, ब्रह्मण्ड, ललित, भवसागर, वर्ल्ड आदि।

संहार– अंत, नाश, ध्वंश, विध्वंश, समाप्ति, बर्बादी आदि।

सदैव– हमेशा, सदा, निरंतर, लगतार, रोज, प्रतिदिन, बराबर, सर्वदा, सतत आदि।

सफेद– धवल, शुभ्र, शुक्ल, उजला, गौर, धुला, सित, धौला, अवदात, उज्ज्वल, व्हाइट आदि।

सभ्य– शिष्ट, शालीन, भद्र, सौम्य, अच्छा, विनम्र, नम्र, संस्कारी, अनुशासित, सम्भ्रांत, इलीट आदि।

समय– काल, बेला, अवधि, वक्त, टाइम आदि।

समानता– समता, साम्यता, तुल्यता, बराबरी, समत्व, सादृश्य, इक्विलिटी आदि।

समिति– सभा, गोष्ठी, संस्था, संस्थान, मंडली, संघटन, कमेटी आदि।

समुद्र– सागर, जलधि, सिंधु, वारिधि, उदधि, अम्बुधि, पयोधि, पयोनिधि, रत्नाकर, अर्णव, नीरनिधि, अब्धि, पारावार, नदीश, जलधाम, नीरधि, तोयनिधि, वारीश, सी आदि।

समूह– गण, संघ, समूह, पुंज, समुच्चय, कलाप, दल, झुंड, मंडली, निकर, समुदाय, वृन्द, टोली, राशि, निकाय, संगठन, जत्था, ग्रुप आदि।

सम्मान– आदर, समादर, मान, पूज्य, मान्य, रिस्पेक्ट आदि।

सरल– सीधा, भोला, निष्कपट, निश्छल, निर्दोष, निष्काम, अकुटिल, आसान, बोधात्मक, बोधगम्य, सुगम, सुगम्य, सुबोध, सहज, सामान्य, नॉर्मल आदि।

सरस्वती– वीणावादिनी, वागेश्वरी, शारदा, विद्यादेवी, ब्राह्मी विधात्री, भारती, गिर्वाणी, गिरा, भाषा, इला, वीणापति, वागीश, महाश्वेता, निधात्री, वागेश्वरी, वागीवधात्री, कर्णिका, हंसवाहिनी, वाग्देवी आदि।

सर्प– साँप, नाग, उरग, फणधर, फणी, मणिधर, विषधर, फणिधर, सरीसृप, द्विजि, अहि, भुजंग, पन्नग, फणीश, ब्याल, शेषनाग, स्नेक, कोबरा आदि।

सारंग– हाथी, सिंह, कोयल, कामदेव, मृग आदि।

सारांश– संक्षेप, संक्षिप्त, निचोड़, सार, प्रतिपाद्य, समरी आदि।

सीता– जानकी, वैदेही, जनकसुता, रामप्रिया, जनकतनया, भूमिजा, जनककिशोरी, जगजननी आदि।

सुंदर– भव्य, रम्य, अन्यतम, मंजुल, मनोरम, लुभावन, रमणीय, शानदार, दिव्य, मनोहर, मनहर, ललित, ललाम, चारु, रुचिर, कमनीय, खूबसूरत, मनभावन, मोहक, दिलकश, आकर्षक, मनोज्ञ, मंजुली, रमणीक, आलीशान, शोभनीय, ब्यूटीफुल आदि।

सुंदरता– सौंदर्य, शोभा, सुषमा, मनोहरता, मंजुलता, छवि, छटा, आदि।

सुअर– वराह, सूकर, शूकर, पिग, हॉग आदि।

सुख– विलास, भोग, आनंद, सन्तुष्टि, हैप्पीनेस आदि।

सुगंध– खुशबू, महक, परिमल, सुवास, वास, फ्रेगरेंस आदि।

सुनसान– निर्जन, बियाबान, उजाड़, वीरान, खाली, जनशून्य आदि।

सुबह– सबेरा, प्रातः, प्रभात, उषा, अरुणोदय, मॉर्निंग आदि।

सूर्य– भानु, भास्कर, रवि, दिनकर, दिवाकर, भास्कर, प्रभाकर, सवित, पतंग, आदित्य, अक्र, कमलबंधु, दिनमणि, मरीचिमाली, चण्डांशु, हंस, अहन, तेजोराशि, मार्तंड, सूरज, सन आदि।

सेवक– दास, अनुचर, नौकर, भृत्य, परिचर, चाकर, किंकर, परिचायक आदि।

सोना– स्वर्ण, कनक, कंचन, हेम, सुवर्ण, सुबरन, पुष्कल, जातक, रुक्म, तामरस, हाटक, हिरण्य, जातुरूप, चामीकर, गोल्ड आदि।

स्त्री– महिला, नारी, वनिता, अबला, औरत, कामिनी, भामिनी, ललना, वामा, आर्या, कांता, सुंदरी, प्रमदा, कलत्र, अंगना, प्रिया, तरुणी, युवती, रमणी, भार्या, मनोज्ञा आदि।

स्थान– स्थल, ठाँव, ठौर, भूमि, जगह, प्लेस आदि।

स्थायी– अक्षय, शाश्वत, अक्षर, सनातन, सत्य, नित्य, चिरंतन, सर्वकालिक, सदा, सदैव, हमेशा, निरंतर, स्टेबल आदि।

स्वर्ग– सुरलोक, देवलोक, इन्द्रपुरी, सुरपुर, बैकुंठ, परलोक, परमधाम, द्यौ, दिव, हेवेन आदि।

स्वतंत्र– आजाद, स्वाधीन, स्वायत्त, रिहा, स्वच्छंद, खुला, छूट, उन्मुक्त, मुक्त, फ्री आदि।

स्वागत– शुभागमन, अगवानी, आवभगत, वेलकम आदि।

स्वीकार– अंगीकार, स्वीकार्य, स्वीकृति, मंजूरी, कुबूल, एग्री आदि।

‘ह’ से पर्यायवाची

हंस– मराल, मुक्तभ, सरस्वतीवाहन, स्वान आदि।

हँसी– मुस्कान, हास्य, स्मित, मुस्कुराहट, विनोद, दिल्लगी, मजाक, लॉफ आदि।

हत्या– खून, वध, कत्ल, जीवघात, किल आदि।

हनुमान– महावीर, पंचानन, रामदूत, रामभक्त, लक्ष्मण प्राणदाता, पिंगलाक्ष, पवनपुत्र, पवनसुत, पवनकुमार, मारूततनय, मारुतिनंदन, बजरंगी, वज्रदेह, वज्रांगी, कपीश, पवनपुत्र, अंजनी-पुत्र, आञ्जनेय, रामदास आदि।

हरि– विष्णु, इंद्र, चन्द्र, सिंह, मेढक, सर्प, पृथ्वीपाल, पृथ्वीपति, त्रिलोकीनाथ, लक्ष्मीपति आदि।

हर्ष– खुशी, प्रसन्नता, आनंद, प्रमोद, आह्लाद, आदि।

हाथ– कर, हस्त, पाणि, हैंड आदि।

हाथी– गज, हस्ती, करी, कुंजर, द्विरद, नाग, दन्ती, कुम्भी, सिंधुर, गजेंद्र, मतंग, व्याल, वितुण्ड, द्विप, गयंद, वारण, एलिफेंट आदि।

हथियार– अस्त्र, शस्त्र, आयुध, आर्म्स आदि।

हार– पराजय, मात, पराभव, शिकस्त, लूज़ आदि।

हिजड़ा– जनखा, षण्ड, क्लीव, नपुंसक, नामर्द, ट्रांसजेंडर आदि।

हिमालय– नगेंद्र, शैलेंद्र, नगपति, हिमाद्रि, हिमांचल, गिरिराज, हिमगिरि, हिमपति, नगराज, पर्वतराज आदि।

हिरण– हरिण, हिरन, मृग, सारंग, सुरभी, कुरंग, चितल, बारहसिंगा, डियर आदि।

हिस्सा– भाग, अंश, खंड, टुकड़ा, अवयव, अंग, पार्ट आदि।

ह्रास– पतन, क्षय, गिरावट, कमी, न्यूनता, क्षति, हानि, घटाव आदि।

पर्यायवाची सम्बन्धी प्रश्न Test

Leave a Comment

error: Content is protected !!