Kiratarjuniyam Mahakavaya – किरातार्जुनीयम् महाकाव्य एक दृष्टि में –

किरातार्जुनीयम् महाकाव्य के रचयिता महाकवि भारवि हैं। ये संस्कृत साहित्य में अर्थ गौरव के लिए प्रसिद्ध हैं। ‘भारवे अर्थगौरवम्’ अर्थात् थोड़े से शब्दों में बड़ी बातों को समेट लेना अर्थ गौरव की पहचान है। परीक्षा की दृष्टि से यह इस महाकाव्य का संक्षिप्त परिचय बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। उत्तर प्रदेश की टीजीटी तथा पीजीटी … Read more

Meghdut Mhaakaavya by Kalidas- मेघदूतम् महाकाव्य एक दृष्टि में

मेघदूत महाकाव्य कालिदास की उत्कृष्ट कृतियों में से एक है। इस महाकाव्य के कवि (कालिदास) की यहां प्रौढ़ कल्पना, उदात्त भावना परिष्कृत शैली व कोमलकांत पदावली का सामंजस्य दिखाई देना स्वाभाविक है। परीक्षा की दृष्टि से यह कृति एवं कृतिकार दोनों महत्त्वपूर्ण हैं -जिससे संबंधित कुछ महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ यहाँ दी गयी हैं जो आगामी परीक्षाओं … Read more

Kalidas Ka Raghuvnsh Mahakavya – कालिदास का रघुवंश महाकाव्य एक दृष्टि में

Kalidas Ka Raghuvnsh Natak – कालिदास रचित रघुवंश नाटक के संदर्भ में विभिन्न तथ्यों को यहाँ साझा किया गया है। ये तथ्य आपकी परीक्षा से संबंधित पूछे जाने वाले प्रश्नों में काफी मदद करेंगे। प्रणेता – महाकवि कालिदास उपाधि– दीपशिखा कालिदास जन्मकाल – ई. पू. प्रथम शताब्दी से चतुर्थ शताब्दी ई. के मध्य जन्म स्थान … Read more

Bhartiya Kavyshastra/ Sanskrit Kavyshastra भारतीय काव्यशास्त्र-संस्कृत काव्यशास्त्र के प्रमुख आचार्य, संप्रदाय एवं उनकी रचनाएँ

काव्यशास्त्र क्या है? काव्यशास्त्र एक यौगिक शब्द है, जो काव्य+शास्त्र के योग से बना है। काव्य का अर्थ जहां कविता तो शास्त्र का तात्पर्य ज्ञान से है। इस प्रकार काव्यशास्त्र से अभिप्राय कविता संबंधी ज्ञान से है। दूसरे शब्दों में कहें तो काव्यशास्त्र कविता के लेखन एवं पठन-पाठन से संबंधित वह आवश्यक ज्ञान है जिसके … Read more

Andman and Nicobar Islands New Names 2023 – अंडमान द्वीपों के नये नाम

Andman Nicobar Islands New Names

Andman and Nicobar Islands New Names 2023 – अंडमान द्वीपों के नये नाम बदलकर अब परमवीर चक्र विजेताओं के नाम पर होंगे। भारत सरकार ने अंडमान निकोबार के 21 द्वीपों के नाम बदलकर उन 21 शहीदों और परमवीर चक्र विजेताओं के नाम पर रखने का फैसला किया। इन 21 द्वीप समूहों के नये नाम इस … Read more

error: Content is protected !!